पिछला

ⓘ मानी एक ईरानी मूल का धर्म-संस्थापक था जिसने मानी धर्म की स्थापना करी। यह धर्म किसी ज़माने में मध्य एशिया, ईरान और अन्य क्षेत्रों में बहुत फैला हुआ था लेकिन समय ..



                                               

शेरगिल

                                               

जंतर मंतर, उज्जैन

उज्जैन शहर में दक्षिण की ओर क्षिप्रा के दाहिनी तरफ जयसिंहपुर नामक स्थान में बना यह प्रेक्षा गृह जंतर मंतर महल के नाम से जाना जाता है। इसे जयपुर के महाराजा जयसिंह ने सन् १७३३ ई. में बनवाया। उन दिनों...

                                               

इंजील

इंजील इस्लामी शब्दावली के अनुसार ईसा के सुसमाचार को कहा जाता है। कुरान के अनुसार, इंजील अल्लाह द्वारा इंसानियत को दी गई चार पवित्र ग्रंथों में से एक है। जिनमें अन्य 3 हैं ज़बूर, तौरात और कुरान। मान...

                                               

संख्यात्मक अवकलन

संख्यात्मक विश्लेषण में संख्यात्मक अवकलन से आशय उन कलनविधियों से है जिनका उपयोग करके किसी बिन्दु पर अवकलज निकाला जा सके, यदि उस फलन के संख्यात्मक मान कई बिन्दुओं पर दिए हों।

                                               

हाबिल अज़कोना

एबेल अज़कोना एक कलाकार है जिसे स्पेनिश समकालीन कला के ऊर्जावान भयानक के रूप में जाना जाता है। एक चिह्नित आत्मकथात्मक और राजनीतिक पहलू के साथ उनका काम, समाज के खिलाफ एक गहरे विद्रोह को व्यक्त करता ह...

मानी
                                     

ⓘ मानी

मानी एक ईरानी मूल का धर्म-संस्थापक था जिसने मानी धर्म की स्थापना करी। यह धर्म किसी ज़माने में मध्य एशिया, ईरान और अन्य क्षेत्रों में बहुत फैला हुआ था लेकिन समय के साथ-साथ पूरी तरह ख़त्म हो गया। मानी का जन्म पार्थिया के अधीन असुरिस्तान क्षेत्र में हुआ था और मृत्यु सासानी साम्राज्य के गुंद-ए-शापूर शहर में हुई। उसने सीरियाई भाषा में छह प्रमुख धार्मिक रचनाएँ लिखी और एक शापूरगान नामक कृति ईरान के शाह, शापूर प्रथम, को समर्पित करते हुए मध्य फ़ारसी में लिखी।

उस समय सासानी साम्राज्य बहुत विस्तृत हुआ था और उसमें भारत, मध्य एशिया और मध्य पूर्व के बहुत से हिस्सा शामिल हो गए थे। इस से एक ही साम्राज्य में बौद्ध धर्म, पारसी धर्म और ईसाई धर्म के अनुयायी आ गए थे। मानी ने कहा कि वह ईश्वर द्वारा भेजा गया मसीहा है और उसने अपने नए धर्म में इन तीनों धर्मों के तत्व शामिल किये। उसने भारत की यात्रा भी करी, हालांकि आधुनिक राजनैतिक सरहदों के अनुसार वह वास्तव में अफ़्ग़ानिस्तान गया था। उसने अपना सबसे पहला धार्मिक गुट भारत में ही स्थापित किया था और इसके बाद २४१-२४२ ईसवी में वह ईरान लौट आया। वहाँ उसने नए सम्राट शापूर प्रथम की प्रशंसा करी और अपना धर्म फैलाने में जुट गया जिस में उसे काफी सफलता मिली। लेकिन बाद में जब बहराम प्रथम सम्राट बना तो उसपर पारसी धर्म के एक बड़े गुरु, कर्तीर, का गहरा प्रभाव था और उसने मानी को कारावास में बंदी कर लिया, जहाँ उसकी मृत्यु हो गई। लेकिन मानी धर्म फिर भी चलता रहा। उसकी लिखित कोई भी किताब पूर्ण रूप से नहीं बची है लेकिन उनके बहुत से अंश अभी भी उपलब्ध हैं।

                                     
  • म न धर म फ रस آیین مانی आईन - ए - म न अ ग र ज Manichaeism एक प र च न धर म थ ज ईर न क स स न स म र ज य क अध न ब ब ल न य क ष त र म श र ह कर
  • व स तव क स ख य क न रप क ष म न य न रप क ष म ल य absolute value य म प क modulus a उस स ख य क च ह न क ब न उसक आ क क म न क बर बर ह त ह उद हरण
  • द ल ह क म नत नह 1991 क मह श भट ट द व र न र द श त ह न द भ ष क ह स य प र मकह न फ ल म ह यह ग लशन क म र द व र न र म त क गई थ और प ज भट ट
  • स थ न क म न पद धत place - value notation य स थ त - च ह न Positional notation स ख य ओ क न र प त करन क वह प रण ल ज सम क स स क त अ क क म न इस ब त
  • र ज म न स ह आम र आम ब र क कच छव ह र जप त र ज थ उन ह म न स ह प रथम क न म स भ ज न ज त ह र ज भगवन त द स इनक प त थ वह अकबर क स न
  • सव ई म न स ह द व त य म र म क ट स ह 21 अगस त 1912 24 ज न 1970 कछव ह व श स स बन ध त जयप र क अ त म श सक थ उन ह न 1922 स ल कर र ज य क भ रत
  • म न प नव क कण भ ष क व ख य त स ह त यक र ड क स खठणकर द व र रच त एक लल त न ब ध ह ज सक ल य उन ह सन 1978 म क कण भ ष क ल ए स ह त य अक दम
  • थ मस म न - - जर मन ल खक तथ कह न क र थ म उन ह स ह त य क न ब ल प रस क र प रद न क य गय उनक अत यध क प रत क त मक और व ड बन प र ण
  • ग रद स म न प ज ब क मशह र ल क ग यक अभ न त ह उन ह प ज ब ग यक क सम र ट कह ज त ह ग रद स म न क जन म 4 जनवर 1957 क प ज ब क म क तसर ज ल म
  • मह र ज म न स ह त मर ग व ल यर क त मर व श र जप त क र ज थ उन ह ई म स ह सन प र प त ह आ क र त त त ज क ल स ब र ह न Jainism: A
                                     
  • क म ब र यन क ल म ह पहल ब र ज व श म द खल ई पड त ह उनक आय 50 कर ड प र व म न गई ह इसक यह अर थ नह न क लन च ह ए क इसक प र व प थ व पर ज वन थ ह
  • न र द श क: 27 53 N 78 04 E 27.89 N 78.06 E 27.89 78.06 म न गढ अतर ल अल गढ उत तर प रद श स थ त एक ग व ह
  • हस न म न ज य ग स द फ ल म क ल ख म ज द ह - हस न म न ज य ग 1968 फ ल म - प रक श म हर द व र न र द श त और शश कप र और बब त अभ न त हस न म न ज य ग
  • स भ व यत म न प र ब ब ल ट व ल य प - व ल य स ख य क आ कड पर क षण म द ए गए स ख य क य प रत र प म स भ व यत क म न ह त ह यह नल पर कल पन क
  • स वय ह म लय क और प रस थ न करन ए व भगव न श र क ष ण क व क ण ठ ज न स म न ज त ह अन य स वत प र च न सप तर ष ईप सप तर ष स वत ईप व क रम
  • क म नक क स ल य शन क म टर क पठन, pH S म न क बर बर ह त ह म नक स ल य शन S क एक र ज क pH S म न क आग क व स त त ज नक र क स थ, IUPAC क
  • पद म न क ल ह प र अपन समय क ह न द फ ल म क एक ज न - म न अभ न त र रह ह 1983 - फ ल मफ यर सर वश र ष ठ अभ न त र प रस क र - प र म र ग 1981 - फ ल मफ यर
  • ह ज य इड एक तरह क क ल पन क आक त ह ज सम द र जल क औसत सतह स न र म त म न ज त ह और स थ ह मह द व प य भ ग म भ इस सतह क व स त र क प रकल प त
  • र ग न ज श भ ड क म स क एक कश म र व य जन ह ज कश म र ख न क एक ख स यत म न ज त ह फ रस म र ग न क मतलब त ल और ज श क मतलब उत स ह य गरम
  • इनक स ख य 12 म न ह यह य क त य क त नह ह और इनक अ तर भ व ह सकत ह म न - व प रल भ प रणय तथ ईष र य क व च र स द प रक र क तथ म न क स थ रत तथ
  • प रत न ध त व करत ह ग द र शब द क व यत पत ग द वर नद क न म स ह ई म न ज त ह ग द र ज ट श व व श क श ख ह इनक अस त त व ईसव प र व भ व धम न
तरंगरूप
                                               

तरंगरूप

इलेक्ट्रॉनिकी, ध्वनिकी तथा इसी तरह के अन्य क्षेत्रों में, किसी संकेत के तरंगरूप से आशय उस संकेत के ग्राफ से है जिसमें उस संकेत का समय के साथ मान अंकित किया गया हो।

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →